Connect with us

2025 तक देश में होंगे कुल 220 एयरपोर्ट, यूपी में 18 घरेलू और 5 अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे होंगे

Latest

2025 तक देश में होंगे कुल 220 एयरपोर्ट, यूपी में 18 घरेलू और 5 अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे होंगे

देश के सभी राज्यों में कनेक्टिविटी बढ़ाने पर केंद्र सरकार का विशेष फोकस है, चाहे हवाई कनेक्टिविटी हो, सड़क मार्ग या रेल के जरिए। हवाई कनेक्टिविटी के तहत केंद्र सरकार आरसीएस-उड़ान (क्षेत्रीय संपर्क योजना- उड़े देश का आम नागरिक) योजना चला रही है। इसी के तहत गोरखपुर और वाराणसी के बीच पहली सीधी उड़ान की शुरुआत की गई है।

9 शहर एक दूसरे से जुड़ेंगे

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि यह एक ऐतिहासिक दिन है क्योंकि हम 2 प्राचीन शहरों को जोड़ रहे हैं, जिनका हमारे देश के इतिहास पर गहरा सांस्कृतिक और धार्मिक प्रभाव है। वाराणसी 11 शहरों से जुड़ा हुआ था, लेकिन इस ग्रीष्मकालीन कार्यक्रम के उद्घाटन के साथ, यह अब 4 और शहरों गोरखपुर, जयपुर, गुवाहाटी और जम्मू से जुड़ जाएगा। इसी तरह, गोरखपुर जो 6 शहरों से जुड़ा था, इसके बाद 3 और शहरों-वाराणसी, बेंगलुरु और कानपुर से जुड़ जाएगा। इस प्रकार कुल मिलाकर 9 शहर एक दूसरे से जुड़ जाएंगे। उन्होंने कहा कि गोरखपुर में, दिसंबर 2022 तक गोरखपुर हवाई अड्डे के सिविल एन्क्लेव की क्षमता को मौजूदा 100 यात्रियों से बढ़ाकर 300 यात्रियों तक करने जा रहे हैं।

वर्तमान में स्पाइसजेट उत्तर प्रदेश में गोरखपुर, वाराणसी, कानपुर और कुशीनगर हवाई अड्डों पर अपनी सेवाएं प्रदान कर रही है। यह नया उड़ान मार्ग उड़ान योजना के अंतर्गत नौ नई उड़ानों का एक हिस्सा है, जिसे स्पाइसजेट ने शुरू किया है, जिसमें से 6 विशेष रूप से उत्तर प्रदेश के लिए और 3 विमान सेवाएं देश के अन्य राज्यों के लिए होंगी।

एयरलाइन दैनिक उड़ानों का संचालन करेगी और मार्ग पर कम दूरी की उड़ानों के लिए डिजाइन किए गए अपने क्यू 400, 78-सीटर टर्बो प्रोप विमान को तैनात करेगी। स्पाइसजेट भारत का सबसे बड़ा क्षेत्रीय विमान वाहक है। एयरलाइन उड़ान योजना के अंतर्गत देश के विभिन्न हिस्सों में 14 यूडीएएन गंतव्यों को जोड़ने वाली 63 दैनिक उड़ानें संचालित करती है।

पर्यटन के साथ रोजगार के खुलेंगे अवसर

गोरखपुर और वाराणसी उत्तर प्रदेश में लोकप्रिय स्थल हैं और पूरे वर्ष कई पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। वाराणसी उत्तर भारत का एक सांस्कृतिक केंद्र है और दुनिया के सबसे पुराने बसे हुए शहरों में से एक है, जो गंगा नदी के किनारे स्नान घाटों के लिए प्रसिद्ध है। वाराणसी में दुनियाभर में कई सबसे प्रसिद्ध मंदिर हैं। शहर लंबे समय से एक शैक्षिक और संगीत केंद्र रहा है। कई प्रमुख भारतीय दार्शनिक, कवि, लेखक और संगीतकार शहर में रहते हैं या रहते थे, और यहां भारत का पहला आवासीय विश्वविद्यालय, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय है। दुनिया भर से श्रद्धालु गंगा में पवित्र डुबकी लगाने और नदी के किनारे दर्जनों घाटों पर अनुष्ठान करने के लिए वाराणसी आते हैं।

वहीं गोरखपुर राप्ती नदी के किनारे नेपाल सीमा के पास स्थित है और गोरखनाथ मठ और गोरखनाथ मंदिर, नाथ संप्रदाय और अन्य हिंदू, जैन, बौद्ध और सिख संतों का केंद्र होने के कारण एक प्रसिद्ध धार्मिक केंद्र भी है।

हवाई सेवा की सीधी शुरुआत होने से पर्यटक और श्रद्धालुओं को एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने में सहुलियत होगी। इससे न सिर्फ स्थानीय लोग नए रोजगार से जुड़ेंगे, बल्कि पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा।

यूपी में होंगे 18 घरेलू और 5 अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे

नागर विमानन मंत्री ने जोर देकर कहा कि “उत्तर प्रदेश में 4 हवाई अड्डे थे, अब प्रयागराज, कानपुर, बरेली और कुशीनगर में हवाई अड्डों के निर्माण के साथ अब राज्य में कुल 9 हवाई अड्डे स्थापित हो गए हैं। निकट भविष्य में सहारनपुर, मुरादाबाद, अलीगढ़, आजमगढ़, श्रावस्ती, चित्रकूट और सोनभद्र में 7 नए हवाई अड्डे और नोएडा और अयोध्या में 2 नए अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे स्थापित किए जाएंगे। इससे उत्तर प्रदेश में 18 घरेलू और 5 अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे हो जाएंगे।”

नागर विमानन मंत्रालय ऑपरेशन गंगा का भी रहा हिस्सा

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने आगे कहा कि “नागर विमानन मंत्रालय देश में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हाल ही में, नागर विमानन मंत्रालय ऑपरेशन गंगा का हिस्सा था, जहां यूक्रेन के 5 पड़ोसी देशों से संचालित 90 से अधिक उड़ानों के साथ 23,000 से अधिक भारतीय विद्यार्थियों को युद्ध की स्थिति में यूक्रेन से बचाया गया था। उन्होंने भारतीय वायु सेना और सभी निजी एयरलाइनों को धन्यवाद दिया, जो इस ऑपरेशन का हिस्सा थे और उन्होंने अपना पूरा सहयोग प्रदान किया।

Facebook Comments Box
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top