Connect with us

हरियाणा के किसान ने की काले गेहूं की खेती, बंपर पैदावार पर जताई खुशी

Black Wheat Farming Haryana,

AGRICULTURE

हरियाणा के किसान ने की काले गेहूं की खेती, बंपर पैदावार पर जताई खुशी

किसान हमेशा ही खेती में नए-नए प्रयोग करता रहता है। इसी तहत हरियाणा के पलवल जिले के गांव अल्लीका के किसान रामकिशन ने एक एकड़ में काले गेहूं (Black Wheat) का उत्पादन किया है। किसान ने बताया कि काला गेहूं सामान्य गेहूं से अलग होता है। इसकी बालियां सामान्य गेहूं की तरह ही दिखाई देती हैं लेकिन इसका बीज काला और लंबा होता है। यह खाने में स्वादिष्ट होता है और इसकी रोटियां बिल्कुल मुलायम बनती है।

Black Wheat Farming Haryana,

हरियाणा के किसान ने की काले गेहूं की खेती, बंपर पैदावार पर जताई खुशी

रासायनिक खादों के बदले केवल गोबर का खाद प्रयोग

किसा ने बताया कि बिजाई के दौरान केवल गोबर का खाद प्रयोग किया गया। काला गेहूं की फसल में फुटाव काफी अच्छा आया और फसल काफी अच्छी हुई है। उन्होंने बताया कि काला गेहूं में प्रोटीन अधिक मात्रा में पाया जाता है और यह गेहूं बीमारियों की रोकथाम में काफी कारगर साबित होता है। इसलिए अन्य किसानों को भी कम से कम एक एकड़ भूमि में काला गेहूं का उत्पादन करना चाहिए। किसान का मानना है कि काले गेहूं की खेती करने से उपज के साथ साथ किसानों की आय में भी इजाफा होगा।

Black Wheat Farming Haryana,

हरियाणा के किसान ने की काले गेहूं की खेती, बंपर पैदावार पर जताई खुशी

काला गेहूं में न्यूट्रिशन की भरपूर मात्रा | Black wheat nutrition facts

कृषि के जानकारों का कहना है कि काला गेहूं में न्यूट्रिशन की मात्रा भरपूर है। काला गेहूं डायबिटीज के मरीजों के लिए भी फायदेमंद है। इसलिए किसानों को सामान्य गेहूं के मुकाबले काला गेहूं का उत्पादन करना चाहिए। काला गेहूं की बाजार में भी अधिक मांग है। बाजार में इसका चार हजार से 6 हजार रुपए प्रति क्विंटल का रेट किसानों को मिल सकता है।

Black Wheat Farming Haryana,

हरियाणा के किसान ने की काले गेहूं की खेती, बंपर पैदावार पर जताई खुशी

कम लागत में अधिक फसल का उत्पादन

कृषि के जानकार महेंद्र सिंह देशवाल ने बताया कि रासायनिक खादों के अंधाधुंध प्रयोग करने से भूमि का स्वास्थ्य लगातार बिगड़ रहा है जिसकी वजह से फसलों का उत्पादन भी कम हो रहा है। उन्होंने बताया कि वे जिले के किसानों को काला गेहूं के उत्पादन के लिए लगातार जागरूक कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि सामान्य गेहूं की तरह ही काला गेहूं की बुवाई की जाती है। इसमें कोई अलग से लागत नहीं लगती है। कम लागत में किसान अधिक फसल का उत्पादन ले सकता है।

Facebook Comments Box
What’s your Reaction?
+1
0
+1
1
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
1 Comment

1 Comment

  1. Pingback: प्रोफेसर ने नारियल के पत्ते से बनाई स्ट्रॉ, कम होगा सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top