Connect with us

रेल टिकट रद्द कराने पर तुरंत खाते में पहुंचेगा रिफंड, IRCTC ने शुरू की नई सुविधा

Train Ticket Refund

Latest

रेल टिकट रद्द कराने पर तुरंत खाते में पहुंचेगा रिफंड, IRCTC ने शुरू की नई सुविधा

भारतीय रेलवे की सहयोगी कंपनी आईआरसीटीसी ने ट्रेन यात्रियों के लिए अच्‍छी खबर दी है। इसके मुताबिक, अब यात्रियों को ट्रेन टिकट रद्द कराने के बाद रिफंड के लिए दो-तीन दिन इंतजार नहीं करना पड़ेगा। इस नई व्‍यवस्‍था के तहत अगर कोई यात्री आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर ट्रेन टिकट रद्द कराता है तो उस टिकट का रिफंड तत्‍काल उसके बैंक अकाउंट में पहुंच जाएगा।

बता दें कि आईआरसीटीसी के एप और वेबसाइट दोनों के जरिये खरीदे गए टिकट को रद्द कराने पर यात्रियों को यह सुविधा मिलेगी। आईआरसीटीसी- आईपे से अगर ग्राहक टिकट का भुगतान करते है और किसी वजह से उन्हें टिकट कैंसिल करना पड़ता है, तो यात्री का रिफंड तुरंत यात्री अकाउंट में आ जाएगा। इससे पहले ऑनलाइन माध्यम से बुक कराये गए टिकट को रद्द कराने पर रिफंड को पाने में यात्रियों को 48-72 घंटे का इंतजार करना पड़ता था।

गौरतलब हो कि केंद्र सरकार ने डिजिटल इंडिया कैंपेन के तहत 2019 में आईआरसीटीसी-आईपे लॉन्च किया था। IRCTC-iPay से ऐसे बुक करें ट्रेन टिकट?

  • आईपे से बुकिंग करने के लिए सबसे पहले आपको www.irctc.co.in पर लॉगिन करना होगा।
  • आपको अपनी ट्रैवल से जुड़ी जानकारी जैसे तिथि, यात्रा का स्थान भरना होगा।
  • अपने रूट के हिसाब से ट्रेन का चुनाव करें।
  • टिकट बुक करते समय पेमेंट में पहला विकल्प ‘IRCTC iPay’ का मिलेगा।
  • इस ऑप्शन को सेलेक्ट करके Pay and Book पर क्लिक करना होगा।
  • अब पेमेंट के लिए क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या यूपीआई का विकल्प चुनना होगा।
  • ओके पर क्लिक करते ही आपका टिकट तुरंत बुक हो जाएगा। जिसके कन्फर्मेशन का आपको SMS और ईमेल आएगा।
  • इस पेमेंट गेटवे को चुनने पर अगर आप दोबारा टिकट बुक करते है तो पेमेंट डीटेल फिर से नहीं भरनी होगी।

क्या है IRCTC ?

आईआरसीटीसी का पूरा नाम भारतीय रेलवे खानपान एवं पर्यटन निगम है और ये भारतीय रेलवे की एक शाखा है, जो कैटरिंग, पर्यटन, ऑनलाइन टिकटिंग सेवा का संचालन करती है। भारत में रेल टिकट बुकिंग को सुविधाजनक और बेहतर बनाने में आईआरसीटीसी का बहुत बड़ा योगदान रहा है। इस विभाग ने अपने वेबसाइट पर इंटरनेट के जरिए और साथ ही मोबाइल फोन से जीपीआरएस या एसएमएस के जरिए भी रेल टिकट बुकिंग कराने की सुविधा उपलब्ध कराने में पथप्रदर्शक का काम किया है। इसकी स्थापना 27 सितंबर 1999 को हुई थी।

Facebook Comments Box
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top