Connect with us

पाकिस्तान में भांग से बनाई जा रही जींस, विदेशों से आ रही डिमांड

Jeans Made of Hemp | Hemp Jeans Pakistan | Bhang ki Jeans

AGRICULTURE

पाकिस्तान में भांग से बनाई जा रही जींस, विदेशों से आ रही डिमांड

भांग को हमेशा ही नशे से जोड़कर देखा गया है। लेकिन आप ये जानकर चौंक जाएंगे कि भांग से कई तरह के उत्पाद बनाए जा सकते हैं। अगर इसका उत्पादन नकदी फसल के रूप में किया जाए तो ये लोगों की आर्थिकी को सुधार सकता है। हालांकि इसमें कई चुनौतियां है जिसके चलते देश में भांग की खेती को प्रतिबंधित किया गया है।

इसके इतर हमारे पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान पाकिस्तान में भांग के पौधों से धागा बनाकर उनकी जींस तैयार की जा रही है। पाकिस्तान सरकार ने तीन जिलों में भांग उगाने की मंजूरी दी है। दरअसल, इस भांग से बने उत्पादों की पश्चिमी मुल्कों में विशेष रूप से अमेरिका और यूरोपीय देशों में काफी डिमांड है। यहां लोग कपास को किसी टिकाऊ फैब्रिक से बदलना चाहते हैं। इसमें भांग विकल्प के तौर पर उभरकर सामने आया है। ऐसे में भांग से बनने वाले धागे को कपड़ा उद्योग का भविष्य बताया जा रहा है।

Jeans Made of Hemp | Hemp Jeans Pakistan | Bhang ki Jeans

Jeans Made of Hemp | Hemp Jeans Pakistan | Bhang ki Jeans

पाकिस्तान के फैसलाबाद में स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर के टेक्सटाइल इंजीनियरिंग विभाग ने भांग से जींस बनाई हैं। यहां पर भांग के पौधे में मौजूद रेशों से धागा तैयार किया गया है। भांग का धागा सख्त होता है जबकि कपास से निकलने वाला धागा मुलायम होता है। इसलिए दोनों धागों को जोड़कर उससे मजबूत कपड़ा बनाया जा रहा है और इसी कपड़े से जींस तैयार किए जा रहे हैं।

विशेषज्ञों के मुताबिक ये जींस पर्यावरण के अनुकूल है। दरअसल, भांग एक प्राकृतिक फाइबर है। यह पर्यावरण के लिए अच्छा है, साथ ही इसमें रोगाणुरोधी क्षमता भी है। इसी के चलते भांग को लीगल करने की मांग धीरे-धीरे जोर पकड़ने लगी है।

Jeans Made of Hemp | Hemp Jeans Pakistan | Bhang ki Jeans

Jeans Made of Hemp | Hemp Jeans Pakistan | Bhang ki Jeans

भारत की बात करें तो यहां के पहाड़ी राज्यों, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भांग के पौधे से अनेक प्रकार की वस्तुएं बनाने की परंपरा पहले से ही है लेकिन भांग की खेती प्रतिबंधित होने के कारण ये परंपरा भी समाप्त हो गई है। भारत में पिछले कई दशकों से भांग की खेती प्रतिबंधित है। हालांकि चोरी छिपे कई जगहों पर अवैध तौर पर इसकी खेती की जा रही है।

Facebook Comments Box
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
Continue Reading
Advertisement
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top