Connect with us

पत्ता प्लेट का कारोबार कर आत्मनिर्भर बन रहीं महिलाएं 

Leaf Plates Price

AGRICULTURE

पत्ता प्लेट का कारोबार कर आत्मनिर्भर बन रहीं महिलाएं 

सरकार के प्रयासों से देश में तेज गति से सामाजिक और आर्थिक बदलाव हो रहा है, जिससे आधी आबादी भी लाभान्वित हो रही है। झारखंड में कुछ इसी तरह के आंकाक्षी जिले की महिलाएं आत्मनिर्भर बन रही है। पाकुड़ के सुदूरवर्ती ग्रामीण इलाकों की आदिवासी और आदिम जनजाति पहाड़ी महिलाओं मे कोरोना काल में पत्ता प्लेट कारोबार को आत्मनिर्भर बनने का जरिया बनाया।

पत्ता प्लेट बनाने से जीवन स्तर में आया बदलाव

ये महिलाएं, जंगलों से साल का पत्ता संग्रह कर, उन पत्तों से प्लेट बना कर साप्ताहिक हाट बाजारों के अलावा होटलों में बेच कर अच्छी आमदनी कर रही हैं। इस कारोबार से सैकड़ों ग्रामीण महिलाएं जुड़ी हुई हैं, इससे न केवल इनके जीवन स्तर में बदलाव आया है बल्कि इनके बच्चों की परवरिश में भी पहले से अधिक बेहतरी आई है।

पहले होती थी केवल पत्तों की बिक्री

गौरतलब है कि संथाल परगना प्रमंडल के पाकुड़ जिले के लिट्टीपाड़ा और अमड़ापाड़ा प्रखंड के पहाड़ों पर साल के पेड़ बड़े पैमाने पर मौदूज हैं। कुछ साल पहले तक बाहरी कारोबारी स्थानीय लोगों से साल के पत्ते बड़े सस्ते में खरीद कर बड़े पैमाने पर मुनाफा कमाते थे।

Leaf Plates Cost

पत्ता प्लेट का कारोबार कर आत्मनिर्भर बन रहीं महिलाएं

खुद पत्ता प्लेट बना कर बन रही आत्मनिर्भरता

पत्ता प्लेट के कारोबार की संभावना देखकर ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जेएसएलपीएस के माध्यम से महिलाओं का समूह बना कर उन्हें पत्ता प्लेट बनाने का प्रशिक्षण दिया गया, जिसके बाद महिलाओं ने खुद पत्ता प्लेट बना कर इन्हें बाजारों में बेच कर आत्मनिर्भरता की राह पकड़ी।

कोविड के दौरान मनरेगा के अलावा ग्रामीण महिलाओं के स्वरोजगार से जोड़ने के लिए क्लस्टर चिन्हित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि कुछ महिला समूहों को पत्ता प्लेट बनाने का प्रशिक्षण देने के साथ ही, उन्हें मशीन और आर्थिक रूप से भी मदद दी गई ताकि वो अपने कारोबार को आगे बढ़ा कर स्वावलंबी बन सकें।

उत्पादन बढ़ाने के लिए दी जा रही सलाह

इस बारे में पाकुड़ के उपायुक्त कुलदीप चौधरी कहते हैं कि जो भी महिलाएं इस कारोबार से जुड़ी हुई हैं, उनकी पहचान कर उन्हें और मशवरे प्रदान करके और बेहतर रोजगार के अवसर प्रदान कर रहे हैं। इसके लिए संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं, कि जितने प्रकार के सामूहिक इस तरह के कार्यक्रम होते हैं, उनके ग्रुप को सप्लाई आसानी से पहुंच सके ताकि प्रोडक्शन आसानी हो सके।

महिलाओं की इन कोशिशों से जाहिर है कि दुर्गम पहाड़ों पर जंगलों में निवास करने वाली आधीआबादी ने दिखा दिया है कि अवसर मिले तो वो भी स्वावलंबी बन कर कोरोना काल की विषण परिस्थितियों के बावजूद समाज के नव निर्माण में अपनी महत्वपूर्ण योगदान दे सकती हैं।

Facebook Comments Box
What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
Continue Reading
Advertisement
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top